बचपन के वो.…

bachpan k wo

बचपन के वो सुहाने रंग,
रहते जब हम सबके संग,
कोमल था हमारा मन,
किसने जाना तब- क्या है धन?

कितने प्यारे लोग थे वो,
हर पल मेरे संग थे जो,
मम्मी की जब करती  सेवा,
बदले में मिलती थी मेवा,
पापा की जब पड़ती डाट,
लगती तब हम सबकी वाट!

बचपन के वो खेल निराले
एक ही घर में ना जाने हम कितनो को बसाले
क्यों गए  वो मीठे पल
जिसमे, नजाने था, कितना बल
चल फिर , एक बार ,तू संग मेरे चल
दिल में  उठी है,  आज,एक बार फिर हलचल।

Prerna Mehrotra
2/june/2014
ITM HOSTEL

 

Advertisements

4 thoughts on “बचपन के वो.…

  1. csadhikari says:

    Beautiful. Do attend the Kabyagoshthi on the first Sunday of July at 6.30 p.m. in ITM Class room no.3 and recite your poem. God bless you.
    CSA

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s