मुश्किलों में छुपी जीत

45727-oscars-trojansky-talks-hereafter

 

कल किसने देखा है
मेरे हाथ में तो बनी
बस आज की रेखा हैं।
ईशवर का जो लेखा हैं
उसे किसने देखा है।
मैं तो बस इतना जानू
मैंने खुद को मेहनत कर
चिलचिलाती धूप में सेका हैं,
क्यूंकि,किस्मत ने हर वक़्त जो
मुझे कठनाईयो में फेका हैं।
इन कठनाईयो ने ही मेरे बल
के बीज को सींचा हैं।
मुश्किलों से लड़ना भी मैंने
खुद के दम पे ही सीखा हैं।
अब ये सीख ही मेरे जीत के
द्वार खोलेंगी।
ये दुनिया भी,अब मेरे ही
पक्ष में बोलेंगी।
ये देख अब मेरी मुश्किले
भी डोलेंगी।
मुझसे दूर भाग वो
अकेले में कही रोलेंगी।
पर मेरे पास मुड़ के कभी
वापिस नहीं आयेंगी .
क्यूंकि मेरी मेहनत ही
अब मुझे आगे लेके जायेगी।

Prerna Mehrotra
9/11/2014

Advertisements

4 thoughts on “मुश्किलों में छुपी जीत

  1. Muskilon se bachna ham khud se sikha karte hain
    jab ham us muskil ka samna bina dar k kia karte hain .
    bahat lamba safar hai ye jindagi doston
    jis chadhaai ko ham apne balbute se paar kia karte hain .

    dat k lage rehte hain apne lakhsy ko pane ki koshish main .
    hamare housle k age sari muskilen choor choor ho jaya karte hain .
    jindagi di hai bes kimti toufa bhagwanne hame.
    dekhna yeh hai ki us jindagi ham kaise jai karte hain.

    dekh to pate hain ham suraj aur chand ko bi
    par dekhna yeh hai ki ham kitni unchi udaan unke taraf laga pate hain.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s