खिलौना

IMG_20141227_171145

ये खिलौने आज भी,
इस मन को भाते है।
ना देखो इनकी तरफ
तो चुपके से ये हमसे
कुछ कह जाते है।
ओ नौजवान,क्या तू भूल गया
अपने बचपन के साथी को?
क्यों दूर करदी खुदसे तूने-
अपनी बचपन की लाठी को?
देख ज़रा मेरी तरफ,
मैं आज भी तुझे वैसे ही बहलाऊंगा ।
खोजायेगा मुझमे कही तो,
तेरे बचपन की याद बनकर तुझे रुलाऊँगा।
तू तो भूल गया मुझे,
पर मैं, तुझे नहीं भुलाऊँगा।
ज़रूरत पड़ ने पे,
मैं आज भी तुझे पहले जैसे ही हसाउँगा।

Prerna Mehrotra
27/12/2014

Advertisements

One thought on “खिलौना

  1. Good day! This is my first visit to your blog! We are a team of volunteers and starting a
    new project in a community in the same niche.
    Your blog provided us useful information to work on. You have done a marvellous job!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s