छोटो को भी मान दो

It’s certainly not my aim to be impertinent but I just want to substantiate my point that it is not always necessary that whatever our elders says it’s always correct sometime they can also become wrong , so it’s a humble request to all, please consider your younger’s feelings too because they can also guide you.At last I will say that life is all about learning so learn from your younger one also because you never know they might teach you or give you some insight  which you never think before.

बड़ो से गलती नही होती
ये कौन कहता है?
उनकी गलती पर भी क्यों? छोटा
हमेशा चुप चाप उनकी डाट सहता है.
सही होते हुए भी,क्यों वो बड़ो के बहकावे में आके बहता है?
क्यों अपनी आवाज़ उठाकर
वो अपने बड़ो से कुछ नही कहता है.
क्या इसलिए, क्यूंकि इस ज़िंदगी का तज़ुर्बा उसे कम है???
सुनके तो देखो छोटो की बात भी,
उनके कम तज़ुर्बे के बावजूत भी,
उनकी कुछ बातो में भी दम है।
जिसमे छुपे उनकी दबाई हुई बातो के गम है,
जिसे समझने वाले सिर्फ हम है।
तुम सब भी समझो अब मेरी इन बातो की गहराई,
क्यूंकि ये मेरी बाते मेरे तज़ुर्बे के साथ मेरे इस मन में आई।

Prerna Mehrotra
5/1/2015

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s