सब कुछ मुझमे है

12118986_1000288446680131_8234512576161675376_n

Its a bless to be born as a human being. We have a power to do anything “just need to realize the same”.

खज़ाना है मुझमे,
बस एहसास करने की देरी है,
खोज पाई जो उसको,
तो अंत में जीत मेरी है.

शेतान है मुझमे,
बस उसे समझने की देरी है।
ना मार पाई जो उसको,
तो उसके हाथो लिखी फिर हार मेरी है।

भक्ति है मुझमे,
बस करने की देरी है.
जो ना ढूंढ पाई हर जीव में ईश्वर,
तो इसमें गलती सिर्फ मेरी है।

Prerna Mehrotra
24/11/2015

 

Advertisements

3 thoughts on “सब कुछ मुझमे है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s