कभी तो तूने भी

Desktop1

Few days back I went to kashipur and there I encountered with this old car and then I couldn’t resist myself to write on the same.

कभी तो तूने भी किसी को चल के दिखाया होगा,
कभी तो तेरे हॉर्न पर भी कोई बच्चा मुस्कुराया होगा।
फिर आज क्यों इस चुप्पी ने तुझे घेर लिया??
आज क्यों सबने तुझसे मुह फेर लिया??
बिन कहे ही तूने,जैसे मुझे सब कुछ बता दिया,
वक़्त के घेरे ने तुझको इतना कैसे सता दिया???
आज वजूद है तेरा, पर तुझको कोई पहचानता नही,
शान बढ़ाती थी जो सबका, क्या तू गाड़ी है वही ???

 

Prerna Mehrotra
26/1/2016

 

Advertisements

2 thoughts on “कभी तो तूने भी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s