ज़रा सोचो

maxresdefault

Image Source-https://i.ytimg.com/vi/nnUyyjiLn-c/maxresdefault.jpg

जब पाकर सब कुछ खोना ही हैं ,तो हम यहाँ करने क्या आये हैं??
छोड़ के जाना है बहुत कुछ, जबकि लेकर यहाँ हम कुछ नहीं आये हैं।

जब मिलके यहाँ बिछड़ना ही हैं, तो क्यों हमने दूसरों से उम्मीद लगाई हैं ??
खुद पर होकर निर्भर,बहुत से वीरों ने दूसरों को भी राह दिखाई है।

जब सबके दिल में बसे है भगवान, तो क्यों दूसरों को सताये रे ??
जो देखे सबमे उसकी ऊर्जा वो उस तक ही पहुँच जाये रे।

 

Prerna Mehrotra
4/4/2016

Advertisements

One thought on “ज़रा सोचो

  1. Nilesh Rai (Manager Administration - ITM Khr) says:

    Superb.
    On 4 Apr 2016 11:16 pm, “Prerna Mehrotras Weblog” wrote:

    > prerna858 posted: ” Image Source-
    > https://i.ytimg.com/vi/nnUyyjiLn-c/maxresdefault.jpg जब पाकर सब कुछ खोना
    > ही हैं ,तो हम यहाँ करने क्या आये हैं?? छोड़ के जाना है बहुत कुछ, जबकि लेकर
    > यहाँ हम कुछ नहीं आये हैं। जब मिलके यहाँ बिछड़ना ही हैं, तो क्यों हमने दूसरों
    > से उम्मीद लगाई ”
    >

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s