ममता-एक एहसास

sample design
My journey of writing starts from you ma because the kind of value system I got from you from beginning it is just a reflection of the same.someone truly said that the mother is the first and best teacher.
छोड़ मेरी फ़िक्र अब,
क्यों आज भी, तू मुझपे मरती है??
अपनी छोड़, तू क्यों मेरे लिए ईश्वर से लड़ती है?
ये मेरी किस्मत, मैंने खुदने ही, तो है बनाई.
किसी दूसरे से नहीं,
इस जीवन में करी, मैंने बस खुदसे लड़ाई.
अपने गलत ख्यालों को,
जिस दिन मैं, मार गिराऊंगी.
खुदको ही नहीं,
उस दिन मैं ,इस दुनियां को भी, राह दिखाउंगी.
तूने जो सिखाया,
वही तो जीवन में अपनाया है।
फिर क्यों, मेरे इन संघर्षो  को देख,
तेरा मन भर आया है??
सफलता की सीढ़ी में,
अभी तो पैर जमाया है।
मुझ पर यू निहाल होकर माँ,
तुमने मेरा अपार प्रेम कमाया है।
Prerna Mehrotra
10/5/2017
Advertisements

One thought on “ममता-एक एहसास

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s