मेरे प्यारे पापा

DSC_0059

Love you papa you are truly an inspiration…..

मेहनत की अग्नि में, खुद को जलाके,
तुमने बहुततो को राह दिखाई हैं।
अपनों को पहुँचा दिया तट पर,
फिर क्यों अपनी नइया तुमने,
लेहरो के बीच में लगाई हैं।
तुम्हारी अपनी उम्मीदे इस जीवन से ,कहाँ खो गई??
तुम्हें देख इस हाल में, मेरी रूह तक रो गई।
डिप्रेशन की दुनियां में, रहकर भी,
तुमने इतना कमाल कैसे कर दिखलाया??
तुम्हारे इस हौसले को देख,
इस दिल को भी करार आया।
नहीं देखा ईष्वर को,
तुममे ही कही, मैं उन्हें ढूंढ पाती हूँ।
तुम्हे अपनी बात समझाने में,
मैं भले ही, वक़्त लगाती हूँ।
इस दुनियाँ की भीड़ में भी,
ना जाने क्यों बस, मैं तुम्हें ही बहुत चाहती हूँ।
अपने जज़्बात बोल के नहीं तो क्या?
शब्दों में तो बया कर सकती हूँ।
आपकी ख़ुशी के लिया- ओ मेरे पापा,
मैं ईश्वर से भी लड़ सकती हूँ।
मुझे इस लायक बनाकर,
तुमने अपना फ़र्ज़ निभाया हैं।
मेरी नादानियों को भी कर माफ़,
तुमने अपना प्यार ,मुझपर निस्वार्थ लुटाया हैं।
तुमसे बहुत कुछ सीख,
तुम्हारी इस लगन की आदत,
मैं अपने जीवन में अपनाऊंगी।
अपने इन शब्दों के ज़रिये,
इस दुनियाँ की नज़रो में,
मैं तुम्हें प्रेरणा बनाऊंगी।
सीखेंगे लोग तुमसे डिप्रेशन से कैसे लड़ा जाता हैं।
उस दरमियाँ, कैसे दुखो का पहाड़,
पूरे परिवार पर गिर जाता है।
उस समय भी तुमने कैसे पूरे परिवार को संभाला।
तुम्हारे उस जुनून का रंग था, बड़ा ही निराला।
जिसके रहते, हम सब ने, साथ मिलके वो वक़्त निकाला।

 

Prerna Mehrotra
13/5/2017

Advertisements

One thought on “मेरे प्यारे पापा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s