कॉलेज और कॉर्पोरेट

Bluetooth Exchange Folder-001

practicle & theory both are important but try to give more priority to practicle part of your knowledge.

कॉलेज की पढ़ाई, ना जाने क्यों
कॉर्पोरेट में कम काम आती हैं ??
कुछ अनुभव कर, कुछ लोगो की देख,
ये कवयित्री इतना कुछ लिख पाती है।
तैरनेकी कला कॉलेज बस पड़ा देता है।
फैक समुंदर में,कॉर्पोरेट हमारी कड़ी परीक्षा लेता हैं।
पढ़ना और करना, ये दो अलग बातें हैं।
पढ़ाई में खोकर, जीवन की काटी हमने बहुत सी रातें हैं.
बचपन से उन्हीं बातों को, जो हम प्रैक्टिकल करके सीखते,
असलियत का सामना कर, कॉर्पोरेट की दुनियाँ में हम यू ना चीखते।
मेरी इन पंक्तियों की गहराई, जिस किसी को भी समझ में आयेगी।
उस  छात्र की किस्मत उसे बहुत आगे तक लेजायेगी ।

 

Prerna Mehrotra Gupta
21/5/2017

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s