किसी को जब फर्क न पड़े

Picasa Export

If people are not understanding your situation then try to make them realize their mistake through your love & compassion but also try to maintain your self respect.

किसी को जब फर्क न पड़े,तुम्हारे रूठने से।
रिश्ता बिखर कर नहीं जुड़ता,एक बार उसके टूटने से।
तो क्यों न वक़्त -वक़्त पर, अपनी-अपनी बात रखी जाये।
क्यों न दोनों मिल कर, अपना रिश्ता सजाये।

किसी को जब फर्क न पड़े, तुम्हारे न होने से,
चैन मिलेगा क्या तुम्हें, अकेले में कही रोने से,
अगर मिले, तो ज़रूर कही चुप के से रो लेना।
अपनों से नाता तोड़, बस अपनों से रुख मोड़ न लेना।

किसी को जब फर्क न पड़े, तुम्हारे दुख से,
एहसास कराओ उसको अपनी पीड़ा,अपने सुख से,
तुम्हारा सुख ही उसको उसकी गलती का एहसास करायेगा।
तुम्हें मनाने एक दिन वो भी आयेगा।

 

Prerna Mehrotra Gupta
16/6/2017

Advertisements

“आत्म बल”

confidence-cat-mirror-lion-self-image

Image Source-http://tenminutes.ph/wp-content/uploads/2013/12/confidence-cat-mirror-lion-self-image.jpg

चिन्ताओ के ख्याल जो हर रोज़ मुझे आते है,
कुछ पल मुझे सताकर,
वो मुझसे दूर चले जाते हैं।
सताना तो चाहते थे,वो मुझे हर पल,
मगर इससे दूर रहने का था, मुझपे भी एक हल,
जिसे कहे, ये दुनियाँ “आत्म बल”।

Prerna Mehrotra
14/7/2015