लोटस सूत्रा

Info

Want to know more about human behaviour kindly refer Lotus sutra, Awesome book on Earth.

कैसे मानु कि कोई अच्छा है??
कैसे जानू कि उसका दिल भी, मेरे प्रति सच्चा है??
एक पल में अच्छा तो वही दूसरे पल में हमसे बचता है?
इन्ही व्यवहारों को देख, कवि  हर पल कुछ रचता है।
इस व्यवहार का कारण केवल महापुरुष ही जान पाये।
बुरा हो या अच्छा हर एक व्यक्ति उनके मन को भाये।
हमारा व्यवहार पल भर में क्यों बदलता हैं??
इस बात की गहराई का पता हमें (लोटस सूत्रा ) पढ़ कर पता चलता हैं।

Prerna Mehrotra Gupta
23/6/2017

 

Advertisements

साधू का जीवन

sample design

Spirituality is a continuous process which is based on faith, practice & study. Reading a good book doesn’t make you a better person until or unless you apply the same in your life. This poem of mine will depict the struggle of a genuine practitioner of faith. Anyone can live the life of a monk because it is the heart that is important. Try to be a good person throughout your life.Do not focus outside just focus inside you where good & evil both reside.

ज्ञान के समुंदर में डुबकी लगाके,
जो पानी इस तन पर रह जाता है.
उस गीले पन की आड़ में,
मानव इस दुनियाँ से बहुत कुछ कह जाता है।
सूखे तन पर, ज्ञान का पानी जब मिट जाता है।
एहसास करा कर, उस ज्ञानी को,
साधू से उसे साधारण मनुष्य बनाता है।

ज्ञानी जन को हर रोज़,
ज्ञान के समुंदर में डूबना पड़ता है।
अपने अच्छे कर्म द्वारा ही,
वो इस दुनियाँ से लड़ता है।
अच्छाई का आजीवन साथ
देकर ही वो जीवन में आगे बढ़ता है।

रहता ज्ञान का पानी जब तक उसके तन पर,
पड़ता नहीं गलत का प्रभाव फिर उसके मन पर।
अपनी स्थिति हर रोज़ वो योग से सुधारता है।
अपनी ज्ञान रूपी माला से,
न जाने कितनों का जीवन वो सँवारता है।

 

Prerna Mehrotra Gupta
20/6/2017

खबर नहीं खुदकी

Self control is the best medicine to cure every problem in our life.

खबर नहीं खुदकी,
मगर  दूसरों की खबर तुम रखते हो।
इधर की उधर करना क्या ज़रूरी है?
दूसरे की सुन,उसको सही दिशा भी तो तुम दिखा सकते हो??

खबर नहीं खुदकी,
दूसरों की बातों को सुन,चिढ़ के बैठ जाते हो.
उसके प्रति बैर रखना क्या ज़रूरी है???
उस चिड़चिड़ाहट में तुम अपना ही कीमती वक़्त गवाते हो.

खबर नहीं खुदकी,
दूसरों से उम्मीद लगाते हो.
सबसे अपना काम निकलवाना क्या ज़रूरी हैं??
तुम अपनी क्षमता को क्यों नहीं जगाते हो.

खबर नहीं खुदकी,
ईश्वर को बाहर ढूंढने निकल जाते हो.
उनको ऐसे पाना क्या ज़रूरी है??
झांको खुदमे, खुदको कर नज़र अंदाज़,
जीवन की ठोकरें तुम खाते हो।
हम सब में बसे है ईश्वर,
ये बात तुम कैसे भूल जाते हो??

Prerna Mehrotra Gupta
20/6/2017

किसी को जब फर्क न पड़े

631

If people are not understanding your situation then try to make them realize their mistake through your love & compassion but also try to maintain your self-respect.

किसी को जब फर्क न पड़े,तुम्हारे रूठने से।
रिश्ता बिखर कर नहीं जुड़ता,
एक बार गलत तरीके से उसके टूटने से।
तो क्यों न वक़्त -वक़्त पर, अपनी-अपनी बात रखी जाये।
क्यों न दोनों मिल कर, अपना रिश्ता सजाये।

किसी को जब फर्क न पड़े, तुम्हारे न होने से,
चैन मिलेगा क्या तुम्हें, अकेले में कही रोने से,
अगर मिले, तो ज़रूर कही चुप के से रो लेना।
अपनों से नाता तोड़, बस अपनों से रुख न मोड़ लेना।

किसी को जब फर्क न पड़े, तुम्हारे दुख से,
एहसास कराओ उसको अपनी पीड़ा,अपने प्यार भरे सुख से,
तुम्हारा सच्चा प्यार ही उसको उसकी गलती का एहसास करायेगा।
तुम्हें मनाने एक दिन वो भी ज़रूर प्यार से आयेगा।

Prerna Mehrotra Gupta
16/6/2017

अच्छे लोग भी हैं इस दुनियाँ में…

1381832071_1781a447_34

Life is a mixture of different people please try to focus on good people and try to be like them.

ऐसा नहीं कि हर आदमी ही,
औरतों को पीटते है।
इस दुनियाँ में कुछ ऐसे भी है,
जो औरतों से बहुत कुछ सीखते है।
बिन बात पर उनपर नहीं चीख़ते है।

ऐसा नहीं कि हर औरत ही ,
आदमियों  के पैसों के पीछे भागती हैं।
इस दुनियाँ में कुछ ऐसी भी है,
जो अपनों की परेशानी को देख,
वो रातों को जागती है।
सही बात को समझाने में,
वो अपनों को भी डांटती हैं।

ऐसा नहीं कि हर सास,
ही बुरी होती है।
इस दुनियाँ में कुछ ऐसी भी है।
जो अपनी बहू के गम में भी रोती है।
अपने परिवार के साथ,
अपनी बहू को भी ख़ुशी से खिला कर सोती है.

ऐसा नहीं कि हर माँ-बाप,
बस बेटों से ही उम्मीद करते है।
इस दुनियाँ में कुछ ऐसे भी है ,
जो बेटियों से भी उतनी ही उम्मीद रखते है।
अपने बुढ़ापे का सहारा वह,
अपनी बेटी को भी समझते हैं।

Prerna Mehrotra Gupta
15/6/2017

अंदर से संवारो ख़ुदको

IMG_1545

Your outer appearance will never define your beauty because it is the heart that is important.The one whose intentions are beautiful is actually beautiful & they are the one who peacefully enjoys their life with dignity and making their environment feel proud.In short, the key to success is to become beautiful from within.” A beautiful heart can earn the trust of millions.

गहरी बन, ज़िन्दगी की गहराई में उतरती हूँ।
अपने को कर बस ठीक,
अब हर रोज़ मैं संवरती हूँ।
इस गहराई का सच,
सच्चे लोग ही समझ पायेंगे।
संवार के यू खुदको आज,
आने वाले कल में वही ज़िन्दगी का लुफ्त उठायेंगे।

Prerna Mehrotra Gupta
28/5/2017