अंदर से संवारो ख़ुदको

unnamed

your outer appearance will never define your beauty because it is the heart that is important.The one whose intentions are beautiful is actually beautiful & they are the one who peacefully enjoys their life with dignity and making their environment feel proud.In short, the key to success is to become beautiful from within.” A beautiful heart can earn the trust of millions.

गहरी बन, ज़िन्दगी की गहराई में उतरती हूँ।
अपने को कर बस ठीक,
अब हर रोज़ मैं संवरती हूँ।
इस गहराई का सच,
सच्चे लोग ही समझ पायेंगे।
संवार के यू खुद को आज,
आने वाले कल में वही ज़िन्दगी का लुफ्त उठायेंगे।

 

Prerna Mehrotra Gupta
28/5/2017

Advertisements

पहले खुद में झाको

1546000_1038681389507503_7939784144998794835_n

Be an inspiration for others….

एक ही लक्ष्य थाम कर,
ज़िन्दगी में आगे बढ़ना।
दूसरों को बताना बाद में,
पहले तुम खुद ही,
अपने लक्ष्य की सीढ़ी चढ़ना।
बिना खुद कुछ पाये जो,
दूसरो को राह दिखता हैं।
अपनी मंज़िल के रास्ते का काटा,
वो खुद ही बन जाता हैं।
अपने सफर में, सबको अपनी उगली थामे,
आगे बढ़ते जाना हैं।
खुदकी मंज़िल पाके,
हमें दूसरों के जीवन में भी ,
उम्मीद का दिया जलाना हैं।
लेकिन सबसे पहले तुम्हें,
अपना हौसला जगाना हैं.
जिसे देखने को बेचैन ,
बैठा ये सारा ज़माना हैं।

Prerna Mehrotra Gupta
22/5/2017

नज़र अंदाज़ ना कर- “खुदकी खामियां ”

unnamed (7)

Its good to know your weak point.

नज़र अंदाज़ कर खुद की खामियां,
कोई बहुत दूर तक जाता नहीं।
बढ़ता नहीं वो आगे,
जो ज़िंदगी की ठोकर खाता नहीं
यू बेबस कर खुदको,
ज़िन्दगी की राहो में ,बैठ ना जाना.
बदल के उन्ही राहो के हालात ,
तू अपने जीवन की कहानी रचाना.

 

Prerna Mehrotra Gupta
6/5/2017

कोई नहीं किसीका

Master your mind rather your mind master you…..

ना है कोई मेरा अपना,
ना ही है, कोई पराया।
जीवन की इस नइया को,
चलानेका भरता, हर कोई अपना किराया।
ये नइया सब अकेले ही तो चलाते है।
जाने की तैयारी ही तो करते हैं सब,
बस कुछ पल यहाँ अपनों संग बिताते है।
इस अवारा मन को,
ये बात असानी से समझ कहाँ आती है।
करके खुदको इस मन के भरोसे,
हर जीव के जीवन में,
कई मुसीबतें आती हैं।
अब कैसे लगाये लगाम इस मन में??
बस्ती है जीव आत्मा भी इस तन में,
रोज़ बात कर उनसे, अपने कर्मो को सजाले।
हर रोज़ कर कुछ अनोखा,
फिर अंत में मौत को भी ख़ुशी से गले लगाले।

 

Prerna Mehrotra Gupta
3/5/2017

जो ना झुलसे

अक्सर देखा है,
मैंने बहुतो को रोते हुये,
तन, मन, धन, लुटा कर भी खोते हुये।
ख़ुशी वो नहीं जो बहार से दिखती हैं,
अग्नि की तपन सह कर ही एक रोटी सिकती है.
उस तेज़ की  तप से ही तो,  बनी है वो पूरी,
जो ना झुलसती, तो रह जाती अधूरी।
ख़ुशी का प्रकाश, तप कर ही जगमगाता हैं.
जो ना झुलसे इसमें वो पीछे रह जाता हैं।

 

Prerna Mehrotra
21/4/2017

नकारात्मक विचारो से दूर

कभी -कभी चाह कर भी,
मन चाह ,नहीं मिलता।
डालो चाहे हज़ारो तरह की खाद,
वक़्त से पहले तो एक फूल भी नहीं खिलता।
सघर्षो के हल को, जीवन के खेत पर चलाओ,
नकारात्मक विचारो से दूर,
अपनी एक नई दुनियाँ बसाओ।
जब वही दुनियाँ अच्छे कर्मो से भर जायेगी।
तेरे इतिहास को भूल,
ये दुनियाँ तेरे ही गुण गायेगी।
बस उसके बनते,
खुद को संभाल के रखना।
आलस के स्वाद को,
उस दरमियान बस तू ना चखना।

 

Prerna Mehrotra
20/4/2017

नाज़ुक कली

flower-fairy-baby_90355-1920x1200

एक आम कली
संस्कार के बीज़ से फली
बड़ी नाज़ो से पली
जब घर से चली
तो बड़ी लागी उसे दुनिया भली।
इस सोच के साथ वो जब आगे बड़ी
समझ पाई हर मोड़ पर है मुसीबत खड़ी
अपनी मुसीबतों से जो डट के लड़ी
सोचा टल जाएगी ये भी जल्द ही घड़ी।
हर मोड़ पर फिर वो बच के चली
उसकी इमानदारी से ही उसकी हर मुसीबत टली।

Prerna Mehrotra
28/10/2014