क्यों ज़रूरी है अच्छाई को अपनाना ??

sample design

Every moment creates some value. Just be happy and make others feel happy.

Prerna Mehrotra Gupta
21/6/2017

Advertisements

किसी को जब फर्क न पड़े

631

If people are not understanding your situation then try to make them realize their mistake through your love & compassion but also try to maintain your self-respect.

किसी को जब फर्क न पड़े,तुम्हारे रूठने से।
रिश्ता बिखर कर नहीं जुड़ता,
एक बार गलत तरीके से उसके टूटने से।
तो क्यों न वक़्त -वक़्त पर, अपनी-अपनी बात रखी जाये।
क्यों न दोनों मिल कर, अपना रिश्ता सजाये।

किसी को जब फर्क न पड़े, तुम्हारे न होने से,
चैन मिलेगा क्या तुम्हें, अकेले में कही रोने से,
अगर मिले, तो ज़रूर कही चुप के से रो लेना।
अपनों से नाता तोड़, बस अपनों से रुख न मोड़ लेना।

किसी को जब फर्क न पड़े, तुम्हारे दुख से,
एहसास कराओ उसको अपनी पीड़ा,अपने प्यार भरे सुख से,
तुम्हारा सच्चा प्यार ही उसको उसकी गलती का एहसास करायेगा।
तुम्हें मनाने एक दिन वो भी ज़रूर प्यार से आयेगा।

Prerna Mehrotra Gupta
16/6/2017

ज़रा सोचो

sample design

जब पाकर सब कुछ खोना ही हैं ,तो हम यहाँ करने क्या आए हैं??
छोड़ के जाना है बहुत कुछ, जबकि लेकर यहाँ हम कुछ नहीं आए हैं।

जब मिलके यहाँ बिछड़ना ही हैं, तो क्यों हमने दूसरों से उम्मीद लगाई हैं ??
खुद पर होकर निर्भर,बहुत से वीरों ने दूसरों को भी राह दिखाई है।

जब सबके दिल में बसे है भगवान, तो क्यों दूसरों को सताए रे ??
जो देखे सबमे उसकी ऊर्जा वो उस तक ही पहुँच जाए रे।

Prerna Mehrotra
4/4/2016

दिखावे के रिश्ते

broken-rope-23354

Source: http://static.natgeofoto.nl/pictures/genjUserPhotoPicture/original/54/33/02/broken-rope-23354.jpg

बिगड़ते रिश्तो से मैंने सीखा
अपने में ही रहना बेहतर है
क्योंकि  ज़बरदस्ती रिश्ते जोड़े नहीं जाते
उन्हें जोड़ना भी अगर हम चाहे
तो हम ही अपनी मुह की खाते।

Prerna Mehrotra
10/12/2014