क्यों ज़रूरी है अच्छाई को अपनाना ??

  1. unnamed

Truth always win, try to practice what you preach.One day or the other everybody will die so why cant we create value in society till the time we here.

मरता तो हर हाल में है इंसान,
तो सही दिशा में बढ़ना क्यों ज़रूरी है।
हर इंसान के अंदर ही छुपी,
ये कैसी उसकी मज़बूरी है ??
क्योंकि शरीर और  वजूद दोनों ही मिट जायेगा।
तेरे करे कर्मो का साया ही तो,
बस यहाँ रह जायेगा।
अपनी मृत्यु से,
न तो ज्ञानी और न ही अज्ञानी बच पायेगा।
अच्छा आहार और अच्छी सोच से,
अपने जीवन को अच्छा बनाओ
गलत विचारों के रहते,
खुदके जीवन से बड़ी-बड़ी उम्मीद न लगाओ।
जैसा बनना चाहते हो,
वैसे जीके दिखाना होगा।
अपनी कही बातो पर,
पहले तुम्हें भी चलके दिखाना होगा।
तुम्हारी सफलता के पीछे होगा,
सिर्फ और सिर्फ तुम्हारे कर्मो का हाथ।
वरना कौन मानेगा तुम्हारी कही कोई भी बात.

Prerna Mehrotra Gupta
21/6/2017

बदलाव

10390336_871026949606282_3986816662554110290_n

Human revolution is a process through which we can understand our life deeply.

एक सफर जीवन का खत्म नही होता,
तो दूसरा शुरू हो जाता हैं।
अपने पर क्या नहीं भरोसा??
फिर क्यों जीवन के बदलावों से तू डर जाता हैं।
हर एक बदलाव हमे,
दूसरे बदलाव के लिए तैयार करता है।
इस बात की गहराई को ना समझ,
तू क्यों पल-पल मरता हैं।

Prerna Mehrotra Gupta
25/5/2017

हवाओं का शोर

208396_520587321296731_2063617321_n

Never underestimate the power of nature….

बादलों में छुप कर,
हवायें भी शोर मचाती हैं।
खुदको थामे, ये दुनियाँ को,
तूफानों से बचाती हैं।
परेशान होकर जब ये,
अपना आपा खो देती हैं।
इसके केस में उलझ कर,
ये दुनियाँ भी रो देती हैं।

 

Prerna Mehrotra Gupta
20/5/2017

कड़वा सच

मज़बूती की झंकार,
थिरकतीं जिसके मन में,
स्वस्थ रूपी पेड़,
पनपे उसके तन में.

पहनकर आलस का चोला जो आगे बढ़ता हैं।
दूसरों को देख विजय,
जो बस हाथ ही मलता हैं।

छोटासा है जीवन,
इसमें कुछ काम बड़ा तू कर्जा।
पूजा से कही अधिक बड़ा है,
अच्छे कर्मो का दर्जा।

 

Prerna Mehrotra
21/4/2017

सच्चा ज्ञान

God_Lives_within_You-1.189203558_std

Image Source-http://ncsages.org/yahoo_site_admin/assets/images/God_Lives_within_You-1.189203558_std.jpg

प्यार अपनों तक ही सीमित नही होता,
तो क्यों सिर्फ अपनों में ही इसे बाट,
तू ये कीमती वक़्त खोता???
उठके देख ज़रा तू दूसरों का हाल,
मदहोशी के नशे में अपने कर्त्तव्य को ना टाल।
मिला है ये जीवन किसी मकसद के साथ,
इन दुखो में छुपा है हम सब का हाथ.
समझ के इस जीवन को, करुणा का हाथ बढ़ाओ,
दुखी कर किसी जीव को, ईश्वर पर चढ़ावे ना चढ़ाओ।
इंसान में ही जो ईश्वर को ढूंढ पाता है,
सच में सच्चा ज्ञान तो सिर्फ वो ही समझ पाता है।

Prerna Mehrotra
6/11/2015

सच तो यही है

Dignity_MONO

Image Source-http://www.mater.org.au/getfile/fe64dba1-15d3-480d-ac12-514ac5880fa1/Dignity_MONO.aspx

पैसो से नही,
इज़्ज़त तो कर्मो से कमाई जाती है।
ऐसी ही इज़्ज़त की चमक
फिर हर किसीके मन को भाती है।

अच्छी यादो का सिलसिला,
दिल में उतर जाता है.
जो हो इसमें ज़रा भी कड़वाहट
तो दिल से उत्तर जाता है.

अपनी मेहनत के दम पे,
जो दूसरा का भला कर पाता है.
बिना किसी उलझन के,
फिर वो इस दुनिया में नाम कमाता है।

Prerna Mehrotra
23/8/2015

सच

change_yourself_first_650x255

Image source-http://firas.org/wp-content/uploads/2013/12/change_yourself_first_650x255.jpg

First change yourself & then inspire others through your life.

आँखों से परदा हटा,
तो सच दिखा।
उस राह की मंज़िल को समझ,
हमने खुदा को पैगाम लिखा।
तुझे पाने की ख्वाहिश में,
हम अपने कर्मो को भूल जाते है.
दूसरों को देते है उपदेश,
पर खुदको बदल नही पाते है।

Prerna Mehrotra
19/7/2015